Friday, April 29, 2016

Discovery Of X-Rays

8 Nov 1895 को German Physicist Wilhelm Conrad Roentgen Germany की Wurzburg  University मैं अपनी Physics Laboratory में Cathode Ray Tube पर काम कर रहे थे I
W.C. Roentgen 
              वें अपनी  पूर्ण अंधकार युक्त लेबोरेटरी में क्रुक्स ट्यूब को ब्लैक फोटोग्राफिक पेपर से पूर्णतः ढक  क्रुक्स किरणों के प्रभाव का अध्ययन कर रहे थे I उनसे कुछ दुरी पर एक बेंच पर एक प्लेट रखी थी जिस पर बेरियम प्लटिनोसाइनायड (Barium Platinocynide )  नामक फ्लोरोसेंट (Fluorescent ) मटेरियल का लेप चढ़ा था I
              अपने प्रयोग के दौरान Roentgen ने Fluorescent Plate को चमकते देखा जबकि वहां  अन्य कोई भी श्वेत प्रकाश  (Visible Light) का कोई स्त्रोत नहीं था I उन्होंने देखा की प्लेट को Crooks Tube के पास लाने चमक बढ़ती हैं तथा दूर ले जाने पर चमक घटती हैं तथा अधिकतर वस्तुओं से गुज़र जाती हैं I  उन्होंने उन अज्ञात किरणों को X-Ray नाम दिया, जो प्लेट के चमकने के लिए जिम्मेदार थी I यहाँ ' X ' का अर्थ अज्ञात था I
                            उन्हें इन नयी किरणों की खोज  लिए सन् 1901 का Physics का प्रथम Nobel Prize दिया गया I
Bertha's Hand X-Ray 
                        उन्होंने सबसे पहला Medical X-Ray लिया, जो उनकी पत्नी बर्था(Bertha ) के हाथ का X-Ray था I उन्होंने X-Ray की खोज के एक महीने के अंदर क X-Rays की लगभग सारी Properties का पता लगा लिया था जो आज हम जानते हैं I
         

No comments:

Post a Comment